Nov 27, 2020
192 Views
0 0

पानी को कितना भी गर्म – Thought of the day

Written by

पानी को कितना भी गर्म कर लें
पर वह थोड़ी देर बाद अपने मूल स्वभाव में आकर शीतल हो जाता हैं ।
इसी प्रकार हम कितने भी क्रोध में, भय में,अशांति में रह लें,
थोड़ी देर बाद-बोध में, निर्भयता में और प्रसन्नता में
हमें आना ही होगा क्योंकि यही हमारा मूल स्वभाव है।

Article Categories:
Thought of The Day

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


The maximum upload file size: 512 MB.
You can upload: image, audio, video, document, text, other.
Links to YouTube, Facebook, Twitter and other services inserted in the comment text will be automatically embedded.